Sunday, July 27, 2008

“यादें"

































“यादें"



बहुत रुला जाती हैं , दिल को जला जातीं हैं ,


नीदों मे जगा जाती हैं , कितना तड़पा जातीं हैं ,



“यादें" जब भी आती है ”



भीगे भीगे अल्फाजों को , लबों पर लाकर ,


दिल के जज्बातों को , फ़िर से दोहरा जाती हैं ,





“यादें जब भी आती हैं ”



खाली अन्ध्यारे मन के , हर एक कोने मे ,


बीते लम्हों के टूटे मोती , बिखरा जाती हैं ,


“यादें जब भी आती है ”



हम पे जो गुजरी थी , उन सारी तकलीफों के ,


दिल मे दबे हुए , शोलों को भड़का जाती हैं ,



“यादें जब भी आती हैं ”



कितना सता जाती हैं , दीवाना बना जाती हैं ,


हर जख्म दुखा जाती हैं , फ़िर तन्हा कर जाती हैं ,



“यादें जब भी आती हैं ”


13 comments:

mukesh said...

yahi yadein to hai jo kisi bhi inshan ko roola jati hai ya hasa jati hai. ek bar fir se aapki tarif karna chhat hu par sabd hi nhi mil rahe . bus itna hi kehna chunga ki bhut sunder likhti hai aap .

mukesh said...
This comment has been removed by the author.
Imran Jalandhari said...

bahut bariya........

daniashans' said...

tumko jeeta hoon tum ko haara hoon
aaj phir say main besaharaa hoon

tum bhi kah do ki main tumhari hoon
kahta rahta hoon main tumhara hoon

teri yaaden bahut sataati hain
inhee yaadon ka main to maara hoon

kaash taaron mein tum nay dekha ho
main chamakta hua sitaraa hoon

dhoondhtay ho kahaan muhabbat ko
main hoon dani bada ishaara hoon

daniashans' said...
This comment has been removed by a blog administrator.
Birds Watching Group Ratlam (M.P.) said...

hi
really nice ghazzals & mood in your attached photos
i liked it
really a complete good work.

Rocky said...

Bahut hi umda likha hian aapne......

zeashan zaidi said...

जितनी अच्छी ग़ज़लें हैं, उतना ही अच्छा ब्लॉग को सजाया भी है आपने.

"SURE" said...

i liked this collection very much..

GIRISH BILLORE MUKUL said...

achchha laga badhai
\

Sanjeet Tripathi said...

क्या कहूं………
यादें……………………

Vijayraj chauhan said...

नए चिठ्ठे के लिए बधाई हो !
आशा रखता हूँ कि आप भविष्य में भी इसी प्रकार लिखते रहे |
आपका
विजयराज चौहान (गजब)
http://hindibharat.wordpress.com/
http://e-hindibharat.blogspot.com/
http://groups.google.co.in/group/hindi-bharat?hl=en

अभिन्न said...

यादें जब भी आती हैं ”

कितना सता जाती हैं , दीवाना बना जाती हैं ,
हर जख्म दुखा जाती हैं , फ़िर तन्हा कर जाती हैं ,
..............yahi andaz dard ko mahsoos karne aur vyakt karne ka aapko ek vishist'ta pradaan karta hai