Friday, October 24, 2008

"SATH"







"साथ"
बस एक तेरे "साथ" की प्यासी मेरे तन्हाई है,
मेरे इन निगाहों मे सिर्फ़ तेरे इंतजार की परछाई है.
चांदनी कहाँ मिलती है, वो भी अंधेरों मे समाई है,
रोशनी के लिए हमने ख़ुद अपनी ही ऑंखें जलाई हैं.
करवट- करवट रात ने हर तरफ उदासी फेलाई है,
ऐसे मे ना जिन्दगी करीब है, ना हमें मौत ही आयी है.
तेरे प्यार की तलब ही इस दिल के गहराई है,ह
मने आंसुओं के सैलाब मे अपनी हर आस बहाई है.
हवा की सरसराहट से भी लगे तेरी ही आहट आयी है,
इस एक उम्मीद मे हमने जाने कितनी सदीयाँ बीताई हैं.
http://www.parikalpnaa.com/2009/01/2008-5.html

22 comments:

Anonymous said...

"realy great thoughts with wonderful words"

keep it up

mukesh said...

bahut khob likha hai pad kar bahut accha laga . aapki 1st kavita se hi bahut impres ho gaya hu . very good keep it up

विनय said...

दीपावली के पावन पर्व पर आपको हार्दिक बधाई!

Suresh Chandra Gupta said...

आप सब सुखी, स्वस्थ और सानंद हों. दीवाली की शुभकामनाएं.

david santos said...

Wonderful!!!
Fantastic posting! Congratulations!!! Have a nice day,

VisH said...

this osam ....i really learn more from you????
keep going......

Jai ho magalmay ho...

अनुपम अग्रवाल said...

हवा की सरसराहट से भी लगे तेरी आहट
सदियों से उम्मीद में भी जगे तेरी चाहत

गिरीश बिल्लोरे "मुकुल" said...

aap
ke roomaniyat
bharee
in kavitao
or aapako
,,,,,,,,,,,,,,,?

गिरीश बिल्लोरे "मुकुल" said...

badhai

महेन्द्र मिश्र said...

बहुत खूब....आपके यहाँ तो बार बार आना पड़ेगा...बहुत कुछ भीतर है और काफ़ी कुछ आप अपनी कलम से बिखेर भी पाती हैं...बधाई.

MUFLIS said...

"raushni ke liye humne khud apni aankheiN hi jalaaii haiN..."
khoobsurat alfaaz ki khoobsurat tarteeb, aur unheiN zaahir karne ka andaaz bhi behtar.
---MUFLIS---

G M Rajesh said...

yaad ila diye lamhe jo beeten hai kuchh hi din pahle.......

creativekona said...

semaji,
bahut sundar shabdon men apne apnee bhvnaon ko abhivyakt kiya hai.badhai.
Hemant Kumar

narendra sharma said...

it is good poem.
dil ko chhoo gai......

Prem Farrukhabadi said...

Pyar door chalaa jaaye.uff,kitna mushkil hota sabhlana.peeda hi peeda.yahi peeda hi kavita ko janm deti hai.your poem is beyond praise.dukhi jaane dukhi ki peeda.sundar rachna ke liye bahut bahut badhaai.

प्रदीप मानोरिया said...

हवा की सरसराहट से भी लगे तेरी ही आहट आयी है,
इस एक उम्मीद मे हमने जाने कितनी सदीयाँ बीताई हैं.
बहुत सुंदर ग़ज़ल कही है सीमा जी

Dev said...

Es ek ummid par hamane jane kitani sardiyan bitayi hai....
Esi ummid par kati hai rat aankhon me,
ki sab ke bad ujalon ka silsila hoga...
Bahut gahri pyar ki abhivyaki..
Regards.

Science Bloggers Association said...

साथ की बात ही निराली है।

-----------
तस्‍लीम
साइंस ब्‍लॉगर्स असोसिएशन

RAJ SINH said...

seemajee,
aapkee bahut saree rachnayen padheen is beech . abhee to sirf "MY PASSION" par hee !

BHOOL JA TOO BHEE KEE TERA KOYEE FASANA NAHEEN ?
KYOON ? TERE AFSANE ME SHAMIL YE ZAMANA BHEE NAHEEN ?
BHALE NA SUR NA TAL ,BAS JUNOON KAFEE HAI ,
BHARA SAAGAR HAI ! TERE PAAS HAI PAIMANA NAHEEN ?

Aapko padhte rahenge .Bahut sukoon hai !

RAJ SINH said...

TOO JO MIL JAYE TERE SHAHAR KO APNA KAH DOON ?

ZINDGEE BICHADE TALAK TUJHKO HEE SAPNA KAH DOON.........

महामंत्री - तस्लीम said...

कृपया इसे भी अपडेट करने का कष्‍ट करें।

-----------
SBAI TSALIIM

डा. श्याम गुप्त said...

जो पवन मेरे तन से लिपट कर बही,
चन्दनी सी महक लेके आती रही ।
मैं समझ ही गया ये सुरभि बावरी,
तेरे तन की छुअन लेके गाती रही॥